आर्य और दस्यु

गर्व योग्य नाम (भाग १)

संसार में नाम का बड़ा महत्व है। भगवान ने सृष्टि रचकर सभी पदार्थों को नाम दिये हैं, जो उनके गुण धर्मों के अनुसार सार्थक और व्यहार्य हैं। वैदिकों में तो नामकरण एक संस्कार के रूप में ही स्वीकार किया गया है। जिसमें नए उत्पन्न प्रत्येक बालक को सुन्दर सार्थक नाम देने का विधान है। नाम …

गर्व योग्य नाम (भाग १) Read More »

गर्व योग्य नाम (भाग २)

हिन्दू शब्द पर स्वामी विवेकानन्द के विचार –     हिन्दू नाम त्यागने का परामर्श केवल स्वामी दयानन्द ने ही नहीं दिया, स्वामी विवेकानन्द को भी इस पर आपत्ति थी | उन्होंने अपने एक व्याख्यान में इस प्रकार कहा  –   “ जिस हिन्दू नाम से परिचित होना आज कल हम लोगों में प्रचलित है, इस …

गर्व योग्य नाम (भाग २) Read More »

Show Buttons
Hide Buttons