Welcome to Arya Lekhak Parishad

We believe in removing superstitions from society. Make the world a noble place.

मांसाहार पर चोट।

धर्म और ईश्वर के नाम पर जानवर काटे और खाएं जायेंगे, क्या ईश्वर में दया नाम का गुण नहीं है, क्या कोई मनुष्य चाहेगा कि उसकी संतान को या परिवार के सदस्य को मारा जाए, ऐसे में भला उस परमेश्वर को क्रोध न आता होगा भला कि मेरे नाम पर कैसे पाखंड चल रहे हैं?

Read More

आर्य लेखक परिषद् एक परिचय

आर्य लेखक परिषद् एक परिचय

महर्षि दयानंद प्रज्ज्वलित अग्नि की ज्वाला वांछित आवश्यक समिधा, सामग्री और घृत के अभाव में शनै:-शनै: शीतल होती हुई अपनी पहचान ही खोती जा रही है । वह अग्नि जिसे कभी एंड्रोजैक्सन ने संसार के पाप भस्म कर देने वाली कहा था | आज स्वयं पाप से घिरी बुझने के लिए विवश दृष्टिगोचर हो रही

Read More